एनयूजे उत्तराखण्ड द्वारा किया गया यह ‘हौंसलो का उड़ान’ कार्यक्रम दृष्टिहीन बच्चों के लिए प्रेरणा और प्रोत्साहन प्रदान करता है: स्वामी स्वयंमानन्द

एनयूजे उत्तराखण्ड ने ‘हौशलों की उड़ान’ कार्यक्रम में नेत्रहीन बच्चों एवं अध्यापकों को को किया सम्मानित

हरिद्वार। नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स द्वारा दिव्यांग प्रतिभाओं को समर्पित वर्ष 2023 के ‘हौसलों की उड़ान’ कार्यक्रम में अनेक दृष्टिहीन और दृष्टिबाधित विद्यार्थियों और अध्यापकों को सम्मानित किया। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए अजरधाम के पीठाधीश्वर स्वामी स्वयंमानन्द ने नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स द्वारा 12 वर्ष पूर्व दिव्यांग, दृष्टिहीन और दृष्टिबाधित विद्यार्थियों के प्रेरणा, और प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए आरंभ की गई ‘हौसलों की उड़ान’ कार्यक्रम को समाज के उपेक्षित और वंचित लोगों के लिए अत्यंत लाभकारी और महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि प्रेरणा और प्रोत्साहन का यह क्रम रूकना नहीं चाहिए। स्वयंमानन्द ने का कि समाज के सबसे गरीब तबके के लोगों के बच्चों को बिना किसी शुल्क के बेहतर शिक्षा, आवास, भोजन और स्कूल यूनीफार्म प्रदान कर उन्हें आत्मनिर्भर, स्वावलंबी और देश का आदर्श नागरिक बनाने की दिशा में दशकों से जिस तरह हम कार्य कर रहे हैं उसी तरह सबको एक साथ मिल कर देश को आगे बढ़ाना चाहिये।

शिक्षण में नवाचार और बेहतर सेवा के लिए दिव्यांण श्रेणी में राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित प्रदीप नेगी ने अपने जीवन के संघर्षपूर्ण दिनों के संस्मण सुनाते हुए दृष्टिहीन और दिव्यांग विद्यार्थियों से कहा कि यह सच है कि हमारा जीवन अनेक संघर्ष और चुनातियों से भरा हुआ होता है। लेकिन हमें जीवन की कठिन डगर पर चलते हुए कभी हार नहीं माननी चाहिए। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों का अडिग हौसला और हिम्मत ही है जो उनकी हर कठिन राह को आसान कर देती है। उन्होंने वार्षिक परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त कर मैरिट में स्थान बनाने वाले सभी विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए अगले वर्ष और अच्छा प्रदर्शन करने को कहा।

यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष त्रिलोक चन्द्र भट्ट ने वार्षिक परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर मैरिट में स्थान बनाने वाले दृष्टिीहीन और दृष्टिबाधित विद्यार्थियों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि यह सच है कि आपके जीवन में चुनौतियां और संघर्ष हैं लेकिन जिस दृढ़ निश्चय और बुलंद हौसलों के साथ आप दिव्यांगता को मात देकर आगे बढ़ रहें हैं उससे आप वह सब हासिल कर सकते हैं, जिसे दूसरे हासिल नहीं कर सकते। श्री भट्ट ने कहा कि नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स द्वारा पत्रकार हितों के लिए संघर्ष के साथ सामाजिक सरोकारों से जुड़ कर दस साल पहले शुरू की गयी हौसलों की उड़ान का यह सफर भविष्य में भी निरंतर जारी रहेगा।

यूनियन के जनपद हरिद्वार इकाई को जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पाल ने कहा कि हमारी यूनियन ‘हौसलों की उड़ान’ कार्यक्रम निरन्तर करती आ रही है, और ऐसे प्रतिभाशाली बच्चों को हमेशा से सम्मानित करती आयी। उन्होनंे कहा कि हमारे द्वारा किया गया इन नेत्रहीन बच्चों के लिए यह कार्यक्रम एवं सम्मान सुक्ष्म है क्योंकि ये बच्चें ईश्वर का स्वरूप हैं। उन्होंने कहा कि सक्षम व्यक्ति भी अपने आप को संतुष्ट महसुस नहीं करता लेकिन ये बच्चे नेत्रहीन होते हुए भी इनके अन्दर वो योग्यता है जो सामान्य मनुष्य में नहीं है।

हौेसलों की उड़ान कार्यक्रम में प्राइमरी वर्ग में कक्षा एक के आदित्य (प्रथम 87.83 प्रतिशत), कु0 कनक (द्वितीय 87.33 प्रतिशत), कु0 दिव्या (तृतीय 86.66 प्रतिशत), कक्षा दो की लावन्या ( प्रथम 84.00 प्रतिशत), कु0 मंजु (द्वितीय 83.87 प्रतिशत), कु0 कामिनी (तृतीय 77.75 प्रतिशत), कक्षा 3 की कु0 आयुषि (प्रथम 93.00 प्रतिशत), कु0 सुमन चौहान (द्वितीय 86.44 प्रतिशत), कु0 अराध्या (तृतीय 84.66 प्रतिशत), कक्षा 4 के अनुज सैनी (प्रथम 94.60 प्रतिशत), अमन (द्वितीय 85.10 प्रतिशत), विदित्य (तृतीय 84.30 प्रतिशत), कक्षा पांच की कु0 अंजली कश्यप (प्रथम 85.66 प्रतिशत), कु0 नंदिनी (द्वितीय 84.44 प्रतिशत) तथा चन्द्रमणी पुरोहित (तृतीय 84.22 प्रतिशत) अंक प्राप्त करने पर प्रमाण पत्र और प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

जूनियर हाई स्कूल वर्ग में कक्षा 6 के नरेन्द्र (प्रथम 83.38 प्रतिशत), कु0 गायत्री (द्वितीय 80.38 प्रतिशत), विवेक यादव (तृतीय 80.00 प्रतिशत), कक्षा 7 के सूरज कुमार (प्रथम 78.11 प्रतिशत), अर्जुन (द्वितीय 76.94 प्रतिशत), शिवांश कुमार (तृतीय 72.77 प्रतिशत) तथा कक्षा 8 के वंश त्यागी (प्रथम 87.61 प्रतिशत), वीरपाल (द्वितीय 86.22 प्रतिशत), कु0 मनीषा महतो (तृतीय 78.50 प्रतिशत) को वार्षिक परीक्षा में उत्कृष्ठ प्रदर्शन करने पर सम्मानित किया गया।

इसी तरह कक्षा 9 के भीम कुमार द्वारा 92.40 प्रतिशत अंक प्राप्त कर प्रथम, अखिल शाह द्वारा 90.00 प्रतिशत अंक प्राप्त कर द्वितीय और सचिन नौटियाल द्वारा 80.60 प्रतिशत अंक प्राप्त कर तृतीय स्थान प्राप्त करने पर प्रतीक चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

इस दौरान दृष्टिीहीन शिक्षक संजय गोस्वामी, नारायण दूबे, राकेश जोशी, बृजेश, उमाशंकर तथा सूरजनाराण दूबे को भी प्रशस्तिपत्र एवं प्रतीक चिन्ह देहर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में प्री-प्राइमरी के विद्यार्थियों के उत्साहवर्धन के लिए इस वर्ग में में 90.80 प्रतिशत अंक प्राप्त कर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली कु0 अंजली, 90.00 प्रतिशत अंक प्राप्त कर तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली कु0 चेतना और 88.83 प्रतिशत अंक प्राप्त कर तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली कुु0 गायत्री को भी प्रतीक चिन्ह और प्रशस्ति पत्र देकर पुरस्कृत किया गया।

इससे पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलन और अजरानन्द अंध विद्यालय हाईस्कूल सप्तसरोवर के विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वंदना के साथ हुआ। शिवांश, गौरव, आदित्य, विश्वविजय त्रिपाठी और अनुज ने मोहक स्वर में सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। नवजोत, राजकुमार, अमन, अनुज और विदित ने अतिथियों में सम्मान में स्वागत गीत प्रस्तुत कर शब्दों के माध्यम से उनका अभिनन्द किया। जिसके बाद मनोज मेहता की मंत्रमुग्ध करने वाली गुरू वंदना सबका मन मोह लिया। यूनियन की हरिद्वार जनपद इकाई के अध्यक्ष प्रमोद कुमार ने स्वागत संबोधन और प्रदेश कोषाध्यक्ष शशि शर्मा, कार्यकारिणी सदस्य धनसिंह बिष्ट, सुनील शर्मा, जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार, महासचिव राहुल शर्मा एवं सुदेश आर्या, नवीन चन्द्र पाण्डे, विनोद चौहान, संजय अग्रवाल, मुकेश कुमार सूर्या, सूर्या सिंह राणा, रेखा नेगी, बालकृष्ण शर्मा आदि ने आगन्तु अतिथियों का माल्यार्पण कर उनका अभिनन्दन किया। अजर धाम अंध विद्यालय हाई स्कूल के प्रधानाचार्य पवन कुमार शर्मा ने आगन्तुक अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue Reading