पीले ईंटों की बुनियाद पर हो रहा इंटरलॉकिंग का निर्माण

जिले के विकासखण्ड फतेहपुर इलाके की ग्राम पंचायत कादिराबाद मजरे रौजा में हो रहे लाखों की लागत से इंटरलॉकिंग रोड के निर्माण में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार व्याप्त है। इंटरलॉकिंग रोड के निर्माण में बॉक्सिंग की जुड़ाई  में पीली ईंटो के साथ भारी मात्रा में बालू का प्रयोग किया जा रहा है। तो वहीं मानको की दुहाई देने वाले ब्लॉक के जिम्मेदार सचिव, तकनीकी सहायक और जेई से लेकर सभी अधिकारी आखों पर पर्दा डाले हुए हैं। एक ओर जहां केंद्र की मोदी और प्रदेश की महन्त योगी आदित्यनाथ सरकार विकास कार्यों में पूरी पारदर्शिता के साथ मानको को ध्यान में रखते हुए विकास कार्य कराए जाने के साफ निर्देश दे रही हैं। तो वहीं दूसरी ओर ग्राम प्रधान सचिव और तकनीकी सहायक के साथ यही की मिलीभगत से उनके मंसूबों को पलीता लगाया जा रहा है। जिसकी जीती जागती नजीर यदि देखना हो तो कादिराबाद गांव में आकर कभी भी देखा जा सकता है। ग्रामीणों के मुताबिक लाखों की लागत से बनाए जा रहे इंटरलॉकिंग रोड के निर्माण में मानको को दरकिनार करते हुए बड़े पैमाने पर धांधली की जा रही है। इंटरलॉकिंग रोड के निर्माण में बॉक्सिंग की जुड़ाई में पीली ईंटों के साथ घटिया किस्म की साम्रग्री का प्रयोग धड़ल्ले से किया जा रहा है। हाल ये है कि एक ओर इंटरलॉकिंग रोड का निर्माण हो रहा है तो दूसरी ओर अभी से जगह-जगह इंटरलॉकिंग रोड की बॉक्सिंग उखड़ने लगी है। जो भ्रष्टाचार को उजागर करती है। ग्रामीणों मोहम्मद वकील, ताजमोहम्मद, रईस अहमद, राममिलन, सालाहूद्दीन, सचिन कुमार, ललित कुमार, मोहम्मद नसीर, जावेद अहमद जैसे दर्जनों लोगो ने घटिया से निर्माण होने पर  नाराजगी जताते हुए सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार के जांच की मांग की है। अब देखना यह है कि इस सड़क निर्माण में हो रहे भ्रष्टाचार की जांच होगी या अधिकारी मामले को रफा दफा करेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue Reading